स्पोर्ट्स नेम

स्पोर्ट्स नेम

time:2021-10-27 05:21:10 बेटी की उम्र 8 साल है, सुकन्या समृद्धि और पीपीएफ में से किसमें निवेश करना फायदेमंद? Views:4591

उत्पत्ति कैसीनो साइन अप प्रस्ताव स्पोर्ट्स नेम 10cric सत्यापन,casumo घुड़दौड़,लियोवेगास भरोसेमंद,lovebet क्रिकेट नियम,lovebet ऑड्स फॉर्मेट,lovebet ज्वेइकैम्पफे,क्या बैकारेट में कोई मास्टर हैं?,बैकारेट जुआ टेबल रेंटल,कम खोने और अधिक जीतने के बैकरेट तरीके,बेटिंग सदस्य पंजीकरण,कैसीनो बॉट,कैसीनो vulkan,क्लासिक रम्मी निकासी,क्रिकेट लाइव मैच,ईई.लवबेट,एफ फुटबॉल की स्थिति,फुटबॉल बाहरी नेट,उत्पत्ति कैसीनो निलंबित,फ़ुटबॉल के एक ही खेल पर बेट कैसे लगाएं,आईपीएल ऑरेंज कैप विजेताओं की सूची,जैकपॉट व्हील,दोस्तों के साथ लाइव ब्लैकजैक,लॉटरी 26/4/21,लोट्टोलैंड लाइव ब्लैकजैक,एनबीए लाइव,ऑनलाइन कैसीनो zahlungsmethoden,ऑनलाइन पोकर मैरीलैंड,पारिमैच जैकपॉट भविष्यवाणी,पोकर युद्ध युग है,रियल मनी ड्रैगन टाइगर फाइटिंग नेट,रूल जंक्शन,रम्मी वेगास,स्लॉट मशीन लाइनों की व्याख्या,खेल 88,स्पोर्ट्सबुक लास वेगास स्ट्रिप,टेक्सास होल्डम कोई डाउनलोड नहीं,टीआर क्रिकेट APK,बैकारेट वीडियो गेम कहां हैं,वाई फुटबॉल मैन नो स्टैंड,एक पत्ती का चित्र,क्रिकेट gk,गोवा जाने का खर्चा,ताज लॉटरी,ब गोवा,बेटा स्टेटस इन हिंदी,लॉटरी भाई, .बेटी की उम्र 8 साल है, सुकन्या समृद्धि और पीपीएफ में से किसमें निवेश करना फायदेमंद?

सुकन्‍या समृद्धि योजना बेटियों के लिए सरकार की लोकप्रिय स्‍कीम है.
कविता मानती हैं कि निवेश का फैसला काफी जांच-परख के बाद ही करना चाहिए. इसके लिए सभी उपलब्ध विकल्पों की समीक्षा जरूरी है. लिहाजा, 8 साल की बेटी के लिए निवेश शुरू करने से पहले वह निवेश के रिटर्न, ब्‍याज दर, जोखिम, समयावधि जैसी बातों का ख्‍याल रखना चाहती हैं. पूंजी बढ़ाने के लिए सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई) और पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) को सबसे सुरक्षित निवेश विकल्प माना जाता है. कविता इन दोनों विकल्पों की तुलना करना चाहती हैं. उन्हें पता है कि दोनों पर सेक्शन 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक टैक्‍स बेनिफिट उपलब्‍ध है. हालांकि, एसएसवाई पर ब्‍याज दर पीपीएफ की तुलना में अमूमन 0.5 फीसदी ज्यादा होती है. वह सोच में पड़ी हैं कि क्‍या एसएसवाई बेहतर विकल्प है.

सुकन्‍या समृद्धि योजना बेटियों के लिए सरकार की लोकप्रिय स्‍कीम है. इस स्‍कीम में बेटी के जन्‍म के बाद उसके नाम पर खाता खुलवाया जा सकता है. उसके 10 साल का होने तक ऐसा किया जा सकता है. खाता खुलने के बाद से बेटी के 21 साल का पूरा होने पर अकाउंट मैच्‍योर होता है. मैच्‍योरिटी तक ब्‍याज अर्जित करने के लिए खाता खुलने की तारीख से कविता को बेटी के 15 साल का होने तक हर साल न्‍यूनतम निवेश करने की जरूरत पड़ेगी. लेकिन, एसएसवाई में उनका पूरा पैसो बेटी के 18 साल का होने तक लॉक रहेगा. सच तो यह है कि बेटी के 18 साल का होने के बाद भी कविता निवेश का सिर्फ 50 फीसदी ही निकाल पाएंगी. बाकी की रकम वह तभी निकाल पाएंगी जब वह 21 साल की होगी.

इसे भी पढ़ें : मुझे रिटायरमेंट के लिए 19 साल में ₹1.24 करोड़ जुटाने हैं, कैसे प्लानिंग करूं?

सुकन्‍या समृद्धि योजना में अक्‍सर ब्‍याज की दर ज्‍यादा होती है. इसका कारण है कि यह स्‍कीम कविता जैसे माता-पिता को बेटी के भविष्‍य के लिए पैसा जुटाने को प्रोत्‍साहित करने के लिए है. हालांकि, डिपॉजिट बेटी के 15 साल का होने तक किया जा सकता है. 16वें साल से 21वें साल के बीच किसी डिपॉजिट की अनुमति नहीं है. हालांकि, अकाउंट पर ब्‍याज 21 साल तक मिलना जारी रहता है. लिहाजा, पैसे को लॉक होने के बावजूद 15 साल से आगे निवेश पर बंदिश है. यह पूंजी के जुटने की क्षमता पर रोक लगाता है.

दूसरी ओर पीपीएफ कविता को निवेश की अवधि पर बंदिशों के बगैर टैक्‍स-फ्री इंटरेस्‍ट अर्जित करने की सहूलियत देता है. इसमें लॉक-इन अवधि छोटी है और लंबी अवधि तक निवेश किया जा सकता है. पीपीएफ के ये फीचर कंपाउंडिंग अवधि के मामले में एसएसवाई जैसे ब्‍याज देने वाले प्रोडक्‍टों के फायदे को न्‍यूट्रलाइज करते हैं.

इसे भी पढ़ें : कैसा है फ्रैंकलिन इंडिया इक्विटी एडवांटेज फंड का 5 साल का रिपोर्ट कार्ड?

लिहाजा, कविता के निवेश का फैसला ज्‍यादा ब्‍याज दर से ही प्रभावित नहीं होना चाहिए. उनके पास सुकन्‍या समृद्धि में निवेश के लिए अपेक्षाकृत कम समय (7 साल) है. यह शायद उन्‍हें कंपाउंडिंग का उतना ज्‍यादा फायदा न लेने दे. कविता की बेटी की उम्र अगर और कम होती तो एसएसवाई वाकई शानदार विकल्‍प था. यह उन्‍हें स्‍कीम में निवेश के लिए ज्‍यादा समय देता. उस स्थिति में वह पीपीएफ की तुलना में ज्‍यादा पैसा जुटा पातीं.

इस पेज की सामग्री सेंटर फॉर इंवेस्टमेंट एजुकेशन एंड लर्निंग (सीआईईएल) के सौजन्य से. गिरिजा गादरे, आरती भार्गव और लब्धि मेहता का योगदान.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें
(Disclaimer: The opinions expressed in this column are that of the writer. The facts and opinions expressed here do not reflect the views of www.economictimes.com.)

टॉपिक

Sukanya Samriddhi Yojanaसुकन्‍या समृद्ध‍ि योजनान‍िवेशबेटी के लिए बचतटैक्‍स बेनिफिटपीपीएफ

ETPrime stories of the day

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Recent hit

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read
Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.
Electric vehicles

Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.

11 mins read
Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed
Environment

Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed

6 mins read

अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है.अगर आप युवा (20 के पड़ाव में) हैं और रिटायरमेंट के लिए बचत शुरू करना चाहते हैं तो आपका निवेश इक्विटी म्‍यूचुअल फंड में ज्‍यादा होना चाहिए.मुझे महीने में 40,000 रुपये म्‍यूचुअल फंडों में निवेश करना है, किन स्‍कीमों में लगाऊं?

अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है.डॉ रेड्डीज लैब के शेयरों में क्‍यों निवेश की सलाह दे रहे हैं विश्लेषक?

वित्त वर्ष 2020-21 में घरेलू म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 41 फीसदी बढ़कर 31.43 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचई गई.समय गुजरने के साथ उन्‍हें इक्विटी में निवेश कम कर देना चाहिए. इसके बजाय धीरे-धीरे डेट फंडों की ओर रुख करना चाहिए.म्यूचुअल फंडों का एयूएम 41% बढ़कर 31.43 लाख करोड़ रुपये पहुंचा

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
जमीन पर फुटबॉल कैसे खेलें

फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की बंद हो चुकी स्कीमों के निवेशकों को इस हफ्ते पैसे मिल जाएंगे. छह स्कीमों के निवेशकों को 2,962 करोड़ रुपये इस हफ्ते मिल जाएंगे.

बैकरेट पूर्वानुमान

बेटी की शिक्षा और शादी के लिए माता-पिता पैसा जोड़ पाएं, इस मकसद के साथ यह स्‍कीम लॉन्‍च की गई थी.

जे की स्पोर्ट्स बार

ईटीएफ नए निवेशकों के लिए अच्‍छा विकल्‍प है. इसके लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत होगी.

करुणा बारिश का

समय गुजरने के साथ उन्‍हें इक्विटी में निवेश कम कर देना चाहिए. इसके बजाय धीरे-धीरे डेट फंडों की ओर रुख करना चाहिए.

365 गेमिंग

प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की सभी स्कीमों से निकासी करने की सलाह दी है. प्राइम इंवेस्टर चेन्नई की एक स्वतंत्र रिसर्च फर्म है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी