खुश किसान पियानो संगत

खुश किसान पियानो संगत

time:2021-10-25 11:19:06 एनपीएस में निवेश किया है? जानिए एसेट एलोकेशन में कैसे करें बदलाव Views:4591

lovebet जॉब्स सैलरी खुश किसान पियानो संगत 188bet पेंटिप,casumo ज़हल्ट निक्ट औस,lovebet 2 टीम परले,एंड्रॉइड के लिए lovebet,lovebet पंजीकरण लिंक,lovebetी द विंडी गोरिल्ला,बैकारेट 3 टियर स्टीमर,baccarat là gì,सर्वश्रेष्ठ 3 रील स्लॉट,भ पोकर क्लब,कैसीनो फ्रांस,चा फुटबॉल मैदान,क्रिकेट 3डी छवि,क्रिकेट स्कोर लाइव भारत बनाम इंग्लैंड,एस्पोर्ट्स लाउंज,फुटबॉल 2021 विश्व कप,फुटबॉल वेबसाइट स्पीड टेस्ट,ज्ञान फुटबॉल,जीतने के लिए बैकारेट कैसे खेलें,क्या बैकरेट ऑनलाइन खेलना सुरक्षित है,जंगल रम्मी अनलॉक,लाइव कैसीनो लाइटनिंग रूले,लॉटरी ड्रा इतिहास,लूडो लूडो,ओडिबेट्स भविष्यवाणियां,जोड़ों के लिए ऑनलाइन खेल,ऑनलाइन असली पैसे वाले जुआ खेल,परिमाच द्वारा,पोकर क्यू एस,रॉबर्ट की क्रिकेट बुक,रम्मी 2 इक्का राजा,रम्मीकल्चर जोकर,स्लॉट मशीन.us.freefiremobile,खेल फुटबॉल लाइव यूरोपीय कप,स्टैंड-अलोन बेटिंग गेम,सबसे अच्छा बोर्ड गेम,यूईएफए चैंपियंस लीग अंक,जो कैश गेम के लिए बेहतर है,21 बजे url,ऑनलाइन पैसे बनाएं lg,क्रिकेट की भविष्यवाणी करो google,गोवा लोकसभा सीट कितनी है,तीन पत्ती लकड़ी,बकरी योजना,बैटरी है,स्टेटस एटीट्यूड, .एनपीएस में निवेश किया है? जानिए एसेट एलोकेशन में कैसे करें बदलाव

नेशनल पेंशन स्‍कीम (एनपीएस) सरकार की एक महत्वपूर्ण स्‍कीम है. यह लोगों को रिटायरमेंट के लिए बचत करने में मदद करती है.
नेशनल पेंशन स्‍कीम (एनपीएस) सरकार की एक महत्वपूर्ण स्‍कीम है. यह लोगों को रिटायरमेंट के लिए बचत करने में मदद करती है. इसके लिए उन्हें टियर-1 और टियर-2 अकाउंट में नियमित कॉन्ट्रिब्‍यूशन करने की जरूरत पड़ती है. एनपीएस अकाउंट खोलते वक्त सब्सक्राइबर्स को विकल्प दिया जाता है. वे चाहें तो विभिन्न एसेट क्लास में खुद पैसा लगाएं. या फिर ऑटो च्‍वाइस ऑप्शन चुनें. इसमें सब्सक्राइबर की उम्र के हिसाब से फंडों का आवंटन होता है. एनपीएस के फंडों का प्रबंधन स्‍वतंत्र पोर्टफोलियो मैनेजर करते हैं. सब्‍सक्राइबरों को अकाउंट खोलते वक्त फंड मैनेजर को चुनने की जरूरत होती है. हालांकि, सब्‍सक्राइबर निवेश के एलोकेशन या पोर्टफोलियो मैनेजर को बाद में ऑनलाइन बदल सकते हैं. आइए, यहां जानते हैं कैसे.

सबसे पहले एनपीएस पोर्टल पर जाएं
एनपीएस सब्‍सक्राइबर को सबसे पहले https://cra-nsdl. com/CRA/ पर लॉग-इन करना होगा. लॉग-इन आईडी सब्सक्राइबर का पीआरएएन नंबर होता है.

इसे भी पढ़ें : ईटीएफ के बारे में यहां जानिए अपने हर सवाल का जवाब

स्‍कीम की पसंद कैसे बदलें?
इसके बाद आपको 'ट्रांजैक्ट ऑनलाइन' टैब पर क्लिक करना होगा. फिर 'चेंज स्‍कीम प्रिफरेंस' चुनें. अब आपको टियर-1 या टियर-2 अकाउंट चुनना होगा. एक्टिव च्‍वाइस या ऑटो च्‍वाइस का विकल्प चुनें. अगर ऑटो च्‍वाइस में बदलाव किया जाता है तो एसेट एलोकेशन का प्रतिशत भी विभिन्न एसेट क्लास में बताना होगा.

इसे भी पढ़ें : डॉ रेड्डीज लैब के शेयरों में क्‍यों निवेश की सलाह दे रहे हैं विश्लेषक?

पोर्टफोलियो मैनेजर कैसे बदलें?
आप पोर्टफोलियो मैनेजमेंट कंपनी भी बदल सकते हैं. ये पेंशन फंड का प्रबंधन करती हैं. यह बदलाव 'ट्रांजैक्ट ऑनलाइन' पर क्लिक कर 'चेंज पीएफएम' ऑप्शन चुनकर किया जा सकता है. आप उपलब्ध विकल्पों से अपनी पसंद का पीएफएम चुन सकते हैं. फिर रिक्वेस्ट को जमा कर दें.

किन बातों का रखें ध्‍यान?
- पोर्टफोलियो मैनेजर में बदलाव एनपीएस पोर्टफोलियो मैनेजर्स के इंवेस्‍टमेंट रिटर्न की तुलना के बाद किया जा सकता है. इसके लिए एक समयसीमा और खास एसेट क्लास चुने जा सकते हैं.

- ये बदलाव पीओपी-एसपी के कार्यालय में जाकर किए जा सकते हैं. इसके लिए बदलाव संबंधी फॉर्म जमा करना होगा.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें
(Disclaimer: The opinions expressed in this column are that of the writer. The facts and opinions expressed here do not reflect the views of www.economictimes.com.)

टॉपिक

एनपीएसफंड मैनेजरसब्‍सक्राइबरएसेट एलोकेशननेशनल पेंशन सिस्‍टम

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?
Electric vehicles

Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?

10 mins read
Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game
Artificial intelligence

Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game

15 mins read

इंडेक्‍स फंडों की तरह ईटीएफ अमूमन किसी खास मार्केट इंडेक्स को ट्रैक करते हैं. इनका प्रदर्शन उस इंडेक्‍स जैसा होता है.सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.सुकन्‍या समृद्धि योजना के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब

भारतीय नियामकों का ऐसी करेंसी को लेकर रुख स्पष्ट नहीं है. उन्‍होंने साफ-साफ कुछ भी नहीं कहा है कि भारतीय इनमें ट्रेड करें या नहीं.बाजार नियामक सेबी ने एक्सपेंस रेशियो की सीमा तय की हुई है. ओपन एंडेड इक्विटी स्कीम के एयूएम के आधार पर सेबी ने विभिन्न स्‍लैब बनाए हैं.सुकन्‍या समृद्धि योजना के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब

सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.सुकन्या समृद्धि स्‍कीम में बेटी के जन्‍म के बाद उसके नाम पर खाता खुलवाया जा सकता है. उसके 10 साल का होने तक ऐसा किया जा सकता है.बेटी की उम्र 8 साल है, सुकन्या समृद्धि और पीपीएफ में से किसमें निवेश करना फायदेमंद?

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
उत्पत्ति कैसीनो जुआ आयोग

हम सीनियर सिटीजन के लिए निवेश के पांच ऐसे विकल्प बता रहे हैं जिससे उनकी मेहनत की कमाई पर अच्छी नियमित आय आती रहे.

क्षत्रिय स्टेटस फोटो

फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड ने शुक्रवार को कहा कि उसकी छह योजनाओं को अप्रैल 2020 में बंद होने के बाद से 15,776 करोड़ रुपये मिले हैं.

रम्मीकल्चर गेम डाउनलोड

निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.

स्लॉट मशीन का नाम पिकर

यूनिट लिंक्ड इंश्‍योरेंस प्‍लान यानी यूलिप और म्यूचुअल फंड कई मायनों में अलग होते हैं. यह और बात है कि कई लोग इन्‍हें एक जैसा प्रोडक्ट समझने की भूल कर बैठते हैं. आपको भी अगर ऐसी गलतफहमी है तो यहां हम इन दोनों के बीच कुछ महत्वपूर्ण अंतरों के बारे में बता रहे हैं.

पोकर ओ पेनिज़

वित्त वर्ष 2020-21 में घरेलू म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 41 फीसदी बढ़कर 31.43 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचई गई.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी