असुका पार्टी

असुका पार्टी

time:2021-10-25 12:54:23 बुनियादी ढांचा क्षेत्र की 438 परियोजनाओं की लागत 4.3 लाख करोड़ रुपये बढ़ी Views:4591

खेल अंडरवियर असुका पार्टी 188bet करियर,casumo नंबर,leovegas ज़र्टिफ़िज़िरंग,lovebet पासा गेम ट्रिक्स,lovebet के मालिक का नाम,lovebet.g,या पोकर,बैकरेट नकद देता है,सर्वश्रेष्ठ प्रतिष्ठा के साथ बैकारेट,बेटिंग राजा कास्ट,कैसीनो दिन ५० फ्रीस्पीले,कैसीनो योंकर्स ओपन,कॉम.लॉटरी.दैनिक,क्रिकेट पोषण तथ्य,एस्पोर्ट्स बीएल नॉवेल्स,फंतासी फुटबॉल लॉटरी मशीन,फ़ुटबॉल स्कोर URL,जीएच लॉटरी ऑनलाइन,बैकारेट वाशिंग कोड की मात्रा कैसे बदलें,आईपीएल तालिका अंक,जेट कैसीनो,लाइव कैसीनो क्रेप्स,लॉटरी 7 तारिके परिणाम,लूडो बॉक्स,नई क्रिकेट किताब का विमोचन,ऑनलाइन फुटबॉल सट्टेबाजी सुरक्षा,ऑनलाइन पोकर वास्तविक,परिमच काम नहीं कर रहा,पोकर शेर,रील स्लॉट ज़ोन,नियम पेमदास,रम्मी24,स्लॉट मशीन क्वार्टर,भारत में खेल पुरस्कार,स्पोर्ट्सबुक पोकर,टेक्सास होल्डम रेहेनफोल्गे,त्रिकोणीय पोकर ऑनलाइन मुफ्त,बैकारेट का विजयी प्रतिशत कहाँ है,यूट्यूब फुटबॉल,ऑनलाइन गेम्स प्ले फ्री,क्रिकेट meaning in hindi,गोवा थाना औरंगाबाद जिला,तीन पत्ती का गेम,बकरा जिबह करने की दुआ हिंदी में,बेताब मूवी सनी देओल की,विंजो रमी, .बुनियादी ढांचा क्षेत्र की 438 परियोजनाओं की लागत 4.3 लाख करोड़ रुपये बढ़ी

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) बुनियादी ढांचा क्षेत्र की 150 करोड़ रुपये या इससे अधिक के खर्च वाली 438 परियोजनाओं की लागत में तय अनुमान से 4.3 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है। एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। देरी और अन्य कारणों की वजह से इन परियोजनाओं की लागत बढ़ी है।

सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय 150 करोड़ रुपये या इससे अधिक लागत वाली बुनियादी ढांचा क्षेत्र की परियोजनाओं की निगरानी करता है।

मंत्रालय की ताजा सितंबर, 2021 की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस तरह की 1,670 परियोजनाओं में से 438 की लागत बढ़ी है, जबकि 563 परियोजनाएं देरी से चल रही हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘इन 1,670 परियोजनाओं के क्रियान्वयन की मूल लागत 21,66,048.11 करोड़ रुपये थी, जिसके बढ़कर 25,96,907.70 करोड़ रुपये पर पहुंच जाने का अनुमान है। इससे पता चलता है कि इन परियोजनाओं की लागत 19.89 प्रतिशत या 4,30,859.59 करोड़ रुपये बढ़ी है।’’

रिपोर्ट के अनुसार, सितंबर, 2021 तक इन परियोजनाओं पर 12,54,512.40 करोड़ रुपये खर्च हो चुके हैं, जो कुल अनुमानित लागत का 48.31 प्रतिशत है। हालांकि, मंत्रालय का कहना है कि यदि परियोजनाओं के पूरा होने की हालिया समयसीमा के हिसाब से देखें, तो देरी से चल रही परियोजनाओं की संख्या कम होकर 380 पर आ जाएगी। रिपोर्ट में 808 परियोजनाओं के चालू होने के साल के बारे में जानकारी नहीं दी गई है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि देरी से चल रही 563 परियोजनाओं में 100 परियोजनाएं एक महीने से 12 महीने की, 120 परियोजनाएं 13 से 24 महीने की, 216 परियोजनाएं 25 से 60 महीने की और 127 परियोजनाएं 61 महीने या अधिक की देरी में चल रही हैं। इन 563 परियोजनाओं की देरी का औसत 47 महीने है।

इन परियोजनाओं की देरी के कारणों में भूमि अधिग्रहण में विलंब, पर्यावरण और वन विभाग की मंजूरियां मिलने में देरी और बुनियादी संरचना की कमी प्रमुख हैं। इनके अलावा परियोजना का वित्तपोषण, विस्तृत अभियांत्रिकी को मूर्त रूप दिये जाने में विलंब, परियोजनाओं की संभावनाओं में बदलाव, निविदा प्रक्रिया में देरी, ठेके देने व उपकरण मंगाने में देरी, कानूनी व अन्य दिक्कतें, अप्रत्याशित भू-परिवर्तन आदि जैसे कारक भी देरी के लिए जिम्मेदार हैं।

(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)
(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)

ETPrime stories of the day

Lilly withered in India’s blooming diabetes market. Key deficiency: an India-specific sales pitch.
Pharma

Lilly withered in India’s blooming diabetes market. Key deficiency: an India-specific sales pitch.

9 mins read
Havildar Tom Cruise? A case diary of Indian cops’ craze for artificial intelligence in policing
Artificial intelligence

Havildar Tom Cruise? A case diary of Indian cops’ craze for artificial intelligence in policing

11 mins read
How Srei lenders hid potential related-party transactions by routing them through public trusts
Under the lens

How Srei lenders hid potential related-party transactions by routing them through public trusts

10 mins read

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) डिश टीवी का 1,000 करोड़ रुपये का राइट्स इश्यू डीटीएच कंपनी के अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण है। कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि कंपनी को तकनीक में बदलाव करते हुए पुराने सेट-टॉप बॉक्स (एसटीबी) को नई पीढ़ी के स्मार्ट बॉक्स से बदलने के लिए धन की आवश्यकता है, ताकि ग्राहक आधार को घटने से बचाया जा सके। अधिकारी ने कहा कि डिश टीवी दरअसल इंटरनेट माध्यम से देखे जाने वाले ओटीटी मंचों से प्रतिस्पर्धा का सामना कर रही है। सार्वजनिक प्रसारक दूरदर्शन के मुफ्त डीटीएच मंच की पहुंचकोलकाता, 24 अक्टूबर (भाषा) पैनासोनिक इंडिया को त्योहारी सीजन के दौरान मांग अच्छी रहने की उम्मीद है। कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि कोविड-19 संक्रमण अब नियंत्रण में है, ऐसे में त्योहारों के दौरान मांग मजबूत रहेगी। इसके अलावा कंपनी उत्पादन आधारित प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना के तहत कम्प्रेसर और हीट एक्सचेंजरों के विनिर्माण के लिए 300 करोड़ रुपये का निवेश करने की तैयारी कर रही है। पैनासोनिक इंडिया के चेयरमैन एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) मनीष शर्मा ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘जून-सितंबर की तिमाही में हमने पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 18 प्रतिशत की वृद्धिडिश टीवी का 1,000 करोड़ रुपये का राइट्स इश्यू कंपनी के अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण : अधिकारी

कोरोना की महामारी के चलते कई लोगों की नौकरी छूट गई है. कई लोगों की सैलरी घट गई है. कइयों के रोजगार ठप हो गए हैं. नौकरियों के मौकों में बड़ी कमी आई है. नई जॉब के विकल्‍प बेहद सीमित हैं. ऐसे में यह समय अपने कम्‍फर्ट जोन से निकलकर घर में कमाई के रास्‍ते खोजने का है. इसकी शुरुआत आप खुद से यह पूछ कर सकते हैं कि आप क्‍या कर सकते हैं? कैसे कर सकते हैं? कहां कर सकते हैं? कितना कमा सकते हैं? हम आपको घर बैठे कमाई के कुछ विकल्प बता रहे हैं.नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) भारतीय सनदी लेखाकार संस्थान (आईसीएआई) के अध्यक्ष निहार एन जंबूसरिया ने अपने सदस्यों से हिंदी को बढ़ावा देने, अपने काम में और अन्य हितधारकों के साथ बातचीत में इस भाषा का इस्तेमाल करने को कहा है। कुछ हलकों में उनके इस निर्देश पर चिंता जतायी गयी है।उन्होंने हाल ही में जारी अपने मासिक ‘समाचार पत्र’ में कहा, "हमारी मातृभाषा हिंदी की शक्ति को समझते हुए आईसीएआई अपनी कार्य संस्कृति में हिंदी के अधिक इस्तेमाल को अपनाने की कोशिश कर रहा है।"संसद के एक अधिनियम के तहत स्थापित आईसीएआई, चार्टर्ड अकाउंटेंट के लिए देश का सर्वोच्च निकायचीन-पाक आर्थिक गलियारे को नुकसान पहुंचा रहा है अमेरिका: पाक अधिकारी

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) देश के शीर्ष 10 शहरों में ज्यादातर परिवार (करीब 60 प्रतिशत) त्योहारी सीजन में खर्च कर रहे हैं, लेकिन पेट्रोल और डीजल तथा अन्य आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी की वजह से वे अपने बजट या मूल्य को लेकर सचेत हैं। रविवार को जारी एक सर्वेक्षण से यह पता चला है। ऑनलाइन मंच लोकलसर्किल्स ने अपने 'मूड ऑफ द कंज्यूमर' राष्ट्रीय सर्वेक्षण में शीर्ष 10 शहरों में 61,000 से अधिक परिवारों को शामिल करते हुए दावा किया है कि उपभोक्ता भावना में भारी सुधार हुआ है। सर्वेक्षण के अनुसार, त्योहारी सीजन 2021 के दौरान खर्चनयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) डिश टीवी का 1,000 करोड़ रुपये का राइट्स इश्यू डीटीएच कंपनी के अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण है। कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि कंपनी को तकनीक में बदलाव करते हुए पुराने सेट-टॉप बॉक्स (एसटीबी) को नई पीढ़ी के स्मार्ट बॉक्स से बदलने के लिए धन की आवश्यकता है, ताकि ग्राहक आधार को घटने से बचाया जा सके। अधिकारी ने कहा कि डिश टीवी दरअसल इंटरनेट माध्यम से देखे जाने वाले ओटीटी मंचों से प्रतिस्पर्धा का सामना कर रही है। सार्वजनिक प्रसारक दूरदर्शन के मुफ्त डीटीएच मंच की पहुंचपैनासोनिक को त्योहारों में बिक्री अच्छी रहने की उम्मीद, पीएलआई के तहत 300 करोड़ रु. का निवेश करेगी

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
खेल संबंधी गतिविधियां जो मांसपेशियों को मजबूत करती हैं

कोरोना की महामारी के चलते कई लोगों की नौकरी छूट गई है. कई लोगों की सैलरी घट गई है. कइयों के रोजगार ठप हो गए हैं. नौकरियों के मौकों में बड़ी कमी आई है. नई जॉब के विकल्‍प बेहद सीमित हैं. ऐसे में यह समय अपने कम्‍फर्ट जोन से निकलकर घर में कमाई के रास्‍ते खोजने का है. इसकी शुरुआत आप खुद से यह पूछ कर सकते हैं कि आप क्‍या कर सकते हैं? कैसे कर सकते हैं? कहां कर सकते हैं? कितना कमा सकते हैं? हम आपको घर बैठे कमाई के कुछ विकल्प बता रहे हैं.

खेलो पर जुआ in ธนาคาร

आईबीए ने बैंक कर्मचारी और अधिकारी संघों के साथ 11वीं द्विपक्षीय वेतनवृद्धि वार्ता नई सहमति के साथ सम्पन्न होने की बुधवार को घोषणा की.

10cric ऐप पुराना संस्करण

सर्वे में 20 से ज्‍यादा इंडस्‍ट्रीज की 1,200 कंपनियों की प्रतिक्रिया ली गई. इनमें से 1,000 ने इस साल वेतनवृद्धि के लिए कहा है.

बैकारेट जीतने के टोटके

आपको अपनी स्किल्‍स का पैसा मिलता है. इस बात का पता करें कि आप जैसी स्किल रखने वाले लोगों को बाहर कितनी सैलरी मिल रही है.

lovebet औ इन प्ले

नयी दिल्ली, 24 अक्टूबर (भाषा) घरेलू सोशल मीडिया मंच 'कू' के प्रयोगकर्ताओं की संख्या बढ़कर डेढ़ करोड़ के करीब पहुंच गई है। इसमें से 50 लाख प्रयोगकर्ता पिछली तिमाही के दौरान जुड़े है। कंपनी के सह-संस्थापक अप्रमेय राधाकृष्ण ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कू भारतीय बाजार में अपना ध्यान केंद्रित करना जारी रखेगी और अधिक से अधिक प्रयोगकर्ता जोड़ेगी। जून, 2022 के बाद कंपनी की एक नए बाजार दक्षिण-पूर्व एशिया में उतरने की योजना है। राधाकृष्ण ने पीटीआई-भाषा से बातचीत में कहा कि भारतीय सोशल मीडिया मंच के प्रयोगकर्ताओं की संख्या में भारी इजाफा हो रहा है।

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी